सेना का संदेश


तेरा वैभव अमर रहे माँ
हम दिन चार रहे न रहे,
तेरी मिट्टी पे हमारा छाप अमर है
बुंद - बुंद रक्त कि दासता कहे

तिरंगे कि गौरव न झुकने देंगे
मर मिटेंगे तेरी वजुद के लिए,
मुल्क का शौर्य न कम होगा
अंतिम श्रण तक देश के लिय जिए

तेरी मिट्टी मे जन्म लिया था
तेरी मिट्टी मे अंतिम विदाई,
तेरी गोद मे पला - बड़ा था
आज तुझसे ले रहा हूँ जुदाई

माँ मेरे जाने पे आँशु न बहाना
उस वीर बेटे कि जननी है तु
शहीद होके तो अमर हुआ मैं
यह पुरी जणगणना को बताना

               Written by :- Shaunak Chakraborty 

Popular Posts